अनिल कपूर युवा लुक्स पछाडिको रहस्य: अनिल कपूरले आफ्नो फिटनेसको पछाडि गहिरो रहस्य प्रकट गरे


अनिल कपूर युवा लुक्स पछाडिको रहस्य: अनिल कपूरले आफ्नो फिटनेसको पछाडि गहिरो रहस्य प्रकट गरे

अनिल कपूर युवा पछि देखि गुप्त केही समय पहिले एक अन्तर्वार्ता मा, उनले स्वस्थ खाना आफ्नो फिटनेस को पूरा क्रेडिट दिए। त्यो पनि विशेष गरी दक्षिण भारतीय खाना।

नयाँ दिल्ली, जीवनशैली डेस्क। युवा अनिल कपूर पछि देखि गोप्य: आपने ने कई बार पढ़ा या सुना होगा कि अनिल कपूर बॉलीवुड के एवरग्रीन एक्टर्स में से एक हैं। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि उनके पास जवान रहने का राज़ भी है। इसमें कोई शक़ नहीं कि 62 साल के ये एक्टर आज भी अपनी उम्र से कम से कम 15 साल छोटे लगते हैं। अनिल कपूर अपने तीन जवान बच्चों, एक्ट्रेस सोनम कपूर, रिया कपूर और हर्षवर्धन कपूर के भाई लगते हैं।     

ऐसा लगता है अनिल कपूर की उम्र काफी धीमी गति से बढ़ रही है। उनकी उम्र हमेशा से चर्चा का विषय रही है। हालांकि, कुछ समय पहले उन्होंने एक इंटरव्यू में अपनी फिटनेस का पूरा श्रेय हेल्दी खाने को दिया था। वह भी खासकर साउथ इंडियन खाना। अनिल ने कहा था कि इडली, सांभर और डोसा उनकी सेहत का राज़ है। लेकिन अब आप सोचेंगे कि डोसा या इडली में ऐसा क्या है जिससे आपकी शरीर पर इतना गहरा असर पड़ता है। तो आज हम आपको बता रहे हैं ऐसा क्यों है:

खूब सेहमंद होता है फर्मेन्टेड खाना

साउथ इंडियन खाने का राज़ है फर्मेन्टेशन। ज़्यादातर दक्षिण भारतीय खाना फर्मेन्टेड होता है इसलिए ये सेहत के लिए काफी अच्छा होता है। फर्मेन्टेड खाने के कई फायदे होते हैं। जैसे इसे पचाना आसान होता है, आपके शरीर को इसे पचाने के लिए ज़्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती। साथ ही फर्मेन्टेड खाने में अधिक पोषण होते हैं और इससे आपके शरीर में अच्छे बैकटीरिया भी चले जाते हैं। जैसे ही खाने में पोषण तत्व बढ़ते हैं वैसे ही आपके शरीर को भी अच्छी मात्रा में पोषण मिल जाता है। फर्मेन्टेड खाना आपके शरीर के पेट के स्वास्थ्य को बढ़ावा भी देता है। ज़्यादातर बीमारियां पेट के खराब स्वास्थ से होती हैं और फर्मेन्टेड खाना इन बीमारियों से लड़ता है। 

बबिता फोगाट कस्टमाइज गरिएको मेहँदी: बबिता फोगाटसँग उनको विवाहमा मेहँदी लग्यो, तपाईले पनि यस्तै अनुकूलित गर्न सक्नुहुन्छ

बबिता फोगाट कस्टमाइज गरिएको मेहँदी: बबिता फोगाटसँग उनको विवाहमा मेहँदी लग्यो, तपाईले पनि यस्तै अनुकूलित गर्न सक्नुहुन्छ

पनि पढ्नुहोस्

वहीं, उत्तर भारतीय खाना फर्मेन्टेड नहीं होता इसलिए आपके शरीर पर इसका अलग तरह से पड़ता है। दक्षिण भारतीय खाने में सिर्फ फर्मेन्टेशन ही अहम नहीं है बल्कि उनका खाना नारियल तेल में बनता है इसलिए भी ज़्यादा हेल्दी होता है। हम सब नारियल तेल के फायदे जानते हैं। स्वस्थ पेट, त्वचा और बाल सब एक दूसरे से जुड़े हैं। दक्षिण भारतीय खाना न सिर्फ आपके शरीर को अंदर से स्वस्थ रखता है बल्कि बाहर से भी इसका असर साफ दिखता है। 

जवाफ लेख्नुहोस्

तपाईंको ईमेल ठेगाना प्रकाशित हुने छैन । आवश्यक ठाउँमा * चिन्ह लगाइएको छ