प्रदूषणले तौल बढाउँदछ: प्रदूषित हावामा सास फेर्दा तौल बढ्न सक्छ


प्रदूषणले तौल बढाउँदछ: प्रदूषित हावामा सास फेर्दा तौल बढ्न सक्छ

प्रदूषणले वजन बढाउँदछ प्रदूषित हावामा दीर्घकालीन प्रदर्शनले गम्भीर स्वास्थ्य समस्याहरू निम्त्याउन सक्छ जस्तै श्वासप्रश्वास समस्या, श्वासप्रश्वासको ट्र्याक्टमा जलन, दम, किडनी समस्याहरू।

नयाँ दिल्ली, जीवनशैली डेस्क। प्रदूषणले वजन बढाउनको कारण दिन्छ: ये सब जानते हैं कि प्रदूषित हवा में सांस लेने से आपके फेफड़े और दिल दोनों पर खतरनाक असर पड़ता है। हवा में छोटे धूल के कणों के लंबे समय तक संपर्क में रहने से सांस संबंधी समस्याएं, सासं की नली में जलन, अस्थमा, किडनी की समस्याएं जैसे गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं और कई बार यह कैंसर का कारण भी बन सकता है। वहीं, एक नई रिसर्च में पाया गया है कि प्रदूषित हवा में सांस लेने से मोटापे के भी शिकार हो सकते हैं।

क्या कहती है रिसर्च 

प्रायोगिक जीवविज्ञान के लिए फेडरेशन ऑफ अमेरिकन सोसाइटीज के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, वायु प्रदूषण हमारे वज़न पर एक बड़ा प्रभाव डाल सकता है। शोधकर्ताओं ने चूहों पर यह अध्ययन किया, जिसके दौरान उन्होंने गर्भवती चूहों को प्रदूषित जगह पर रखा जबकि दूसरे ग्रुप को साफ हवा वाली जगह रखा। 19 दिनों के बाद ये पाया गया कि जो चूहे प्रदूषित हवा में सांस ले रहे थे उन्हें इस तरह की दिक्कते आ रही थीं:

– उनके फेफड़े फूल गए थे।

– एलडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर 50 प्रतिशत तक बढ़ गया।

– इंसुलिन प्रतिरोध स्तर भी बढ़ गया।

इसके अलावा जो चूहे भयानक प्रदूषण में जी रहे थे उनका 8 हफ्तों बाद वज़न भी बढ़ गया था, जबकि चूहों के दोनों समूह को एक सा खाना दिया गया था।

नतीजा क्या निकला?

यह माना गया कि इंफ्लेशन की वजह से वज़न बढ़ा था। हालांकि, ये अध्ययन चूहों पर किया गया था लेकिन प्रदूषण का असर इंसानों पर भी वैसा ही होगा। यही वजह है कि आपको इस प्रदूषण से बचने की ज़रूरत है। जब भी आप बाहर जाएं तो फेस मास्क पहनना न भूलें। हो सके तो अपने घरों में एयर प्यूरीफायर और ऐसे पौधे लगाएं जो हवा को ताज़ा बनाते हैं।

जवाफ लेख्नुहोस्

तपाईंको ईमेल ठेगाना प्रकाशित हुने छैन । आवश्यक ठाउँमा * चिन्ह लगाइएको छ