धेरै थोरै मानिसहरूले रोगबाट बच्नका लागि सावधानी अपनाउँदछन्, यी विशेष चीजहरू संख्या अनुसन्धानमा आए


धेरै थोरै मानिसहरूले रोगबाट बच्नका लागि सावधानी अपनाउँदछन्, यी विशेष चीजहरू संख्या अनुसन्धानमा आए

नुमरका अनुसार भारतीयहरू आफ्नो स्वास्थ्यप्रति सचेत छन्, तर रोगबाट जोगिन उनीहरूले कुनै सावधानी अपनाउँदैनन्।

हालसालै भएको एउटा न्युमरले गरेको अनुसन्धानले पत्ता लगाएको छ कि शीर्ष cities शहरका of० प्रतिशत मानिसहरूले रोगबिमारबाट टाढा रहनको लागि आफ्नो जीवनशैलीमा विभिन्न परिवर्तनहरू गरिरहेछन्। एकै साथ १ 16 प्रतिशत पुरुष र २ percent प्रतिशत महिलाहरूले स्वीकार गरे कि तिनीहरू रोगबाट जोगिन कुनै पनि सावधानी अपनाउँदैनन्। भारतीय चिकित्सा अनुसन्धान परिषद (आईसीएमआर) को ‘भारत: स्वास्थ्यको राष्ट्रका राज्यहरू’ रिपोर्टका अनुसार धेरै स्वास्थ्य योजनाहरूको बाबजुद विगत केही वर्षमा भारतमा बिरामीहरूको स्तरमा कमी आएको भन्दा धेरै वृद्धि भएको छ जुन गम्भीर कुरा हो। मुद्दा हो।

हाल ही में, भारत में सेहत और फिटनेस को लेकर बहुत जागरूकता आई है। जिसमें सबसे ज्यादा सुधार खानपान की आदतों में देखने को मिल रहा है। 64% लोग शारीरिक गतिविधियों जैसे, स्पोर्टस, साइकिलिंग, एक्सरसाइज, जिम और योग को अपने लाइफस्टाइल का जरूरी हिस्सा बना रहे हैं। वहीं, 50 % लोग पूरी तरह से हेल्दी डाइट फॉलो कर रहे हैं जबकि सिर्फ 26% लोग हेल्थ चेकअप को लेकर जागरूक हैं। साथ ही 18% लोग ये सभी हेल्दी रूटीन मेंटेंन करते हैं, हालांकि उन लोगों की संख्या सिर्फ 2% है, जो इनमें से कुछ भी नहीं करते। 

 

न्युमरले यी शीर्ष cities शहरहरूको मासिक स्वास्थ्य खर्चको ’boutमा प्रतिवेदन पनि जारी गरेको छ, जसमा सब भन्दा बढी% 36% ती व्यक्तिहरू हुन् जसले १ १ देखि २ हजार मात्र खर्च गरे।

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

– 20% लोग मानते हैं कि स्वास्थ्य के ऊपर उनका मासिक खर्च 1 हजार से भी कम है। 

– दूसरे 20% लोगों ने दावा किया कि उनका खर्चा 3 से 4 हजार के बीच रहा।

वजन घटाउनको लागि अजवाइन: यदि तपाईं तौल घटाउन चाहानुहुन्छ, भने यस तरिकाले सेलेरी प्रयोग गर्नुहोस्

वजन घटाउनको लागि अजवाइन: यदि तपाईं तौल घटाउन चाहानुहुन्छ, भने यस तरिकाले सेलेरी प्रयोग गर्नुहोस्

पनि पढ्नुहोस्

– 15% ने माना कि उनका खर्चा 4 से 5 हजार के बीच था।

– 9% लोगों ने माना कि उन्होंने बीमारियों से बचने और सेहतमंद रहने के लिए 5 हजार से ऊपर खर्च किया।

विश्व अक्षमता दिवस २०१:: हेरचाहका यी तरिकाहरू अपनाएर बच्चाहरूको लागि मार्ग सजिलो बनाउनुहोस्

विश्व अक्षमता दिवस २०१:: हेरचाहका यी तरिकाहरू अपनाएर बच्चाहरूको लागि मार्ग सजिलो बनाउनुहोस्

पनि पढ्नुहोस्

– 33% लोग जिनकी उम्र 22 से 35 के बीच थी, ने माना कि उन्होंने अपने स्वास्थ्य पर 4 हजार से ज्यादा खर्च किया।   

– 24%  लोग जिनकी उम्र 36 – 45 साल के बीच थी उन्होंने भी इस बात को स्वीकारा।

निन्द्राको अभावले हृदयघात हुन सक्छ: निद्रा असफलताले हृदयघातको जोखिम बढाउन सक्छ!

निन्द्राको अभावले हृदयघात हुन सक्छ: निद्रा असफलताले हृदयघातको जोखिम बढाउन सक्छ!

पनि पढ्नुहोस्

– सिर्फ 5% लोग जिनकी उम्र 45 साल थी उन्होंने माना कि उनका स्वास्थ्य पर मासिक खर्च 4 हजार से ज्यादा रहा।

राष्ट्रिय प्रदूषण नियन्त्रण दिन २०१ 2019: घरको सुन्दरता बढाउनका साथै यसले प्रदूषणबाट पनि टाढा रहनेछ, यी इनडोर प्लान्टहरू

राष्ट्रिय प्रदूषण नियन्त्रण दिन २०१ 2019: घरको सुन्दरता बढाउनका साथै यसले प्रदूषणबाट पनि टाढा रहनेछ, यी इनडोर प्लान्टहरू

पनि पढ्नुहोस्

वहीं, दिल्ली में रिपोर्ट के अनुसार यहां सबसे ज्यादा सेहत पर खर्च करने वाले लोग शामिल रहे। दिल्ली में 35% से ज्यादा लोग ऐसे हैं, जिनका मासिक खर्च 4 हजार रुपए से ज्यादा था जबकि कोलकाता में सबसे कम 18% का आंकड़ा रहा। 

जैसा कि सर्वे में पता चलता है कि भारत में रोग निवारक सेहत के प्रति सकरात्मक बदलाव आ रहा है। खासतौर पर शहरी वर्ग में स्वास्थ्य परक तरीकों में काफी तेजी आई है। 

२० Indian२ सम्ममा प्रतिवेदनात्मक स्वास्थ्य क्षेत्र १०० अर्ब डलरले वृद्धि हुने अपेक्षा गरिएको छ भने २० it२ सम्ममा १ 18 प्रतिशतले बढ्ने अनुमान छ। उही समयमा स्वास्थ्य सेवाको उपभोगको हिसाबले यस क्षेत्रका अन्य धेरै ठाउँहरूमा fitness०%, फिटनेसमा २ 27% वृद्धि हुन सक्छ।

जवाफ लेख्नुहोस्

तपाईंको ईमेल ठेगाना प्रकाशित हुने छैन । आवश्यक ठाउँमा * चिन्ह लगाइएको छ