नवरात्रि २०१ 2019: स्वस्थ रहनको लागि स्वस्थ आहारको साथ छिटो रहन पनि महत्त्वपूर्ण छ


नवरात्रि २०१ 2019: स्वस्थ रहनको लागि स्वस्थ आहारको साथ छिटो रहन पनि महत्त्वपूर्ण छ

चाहिए लंबे समय तक अच्छी हेल्थ तो हेल्दी खानपान के साथ ही हफ्ते में एक दिन उपवास की भी आदत डालें। उपवास से सेहत को एक या दो नहीं बल्कि कई सारे फायदे होते हैं जानेंगे इन्हें।

देश में विभिन्न त्योहारों पर और आध्यात्मिक साधना के रूप में उपवास करने की सनातन परंपरा है। स्वतंत्रता संग्राम के दौरान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी द्वारा राजनीतिक और सामाजिक मामलों को सुलझाने में इसका उपयोग कर दुनिया को एक अहिंसक आंदोलन का मार्ग प्रदान किया गया, जिसे अनशन भी कहा जाता है।

महाऔषधि है यह

आयुर्वेद में उपवास को महाऔषधि बताया गया है। गलत खानपान से हमारे शरीर मे दोष और नुकसानदेह तत्वों का संचय होता रहता है। यही बाद में रोगों का कारणे बनते हैं। उपवास के दौरान जठर में अन्न न पहुंचने से इन दूषित अपशिष्टों का पाचन हो जाता है और रोग उत्पन्न होने की प्रक्रिया वहीं रुक जाती है। उपवास को इसी अर्थ में महाऔषधि माना गया है। उपवास करने से शरीर की रोगों से रक्षा होती है। आयुर्वेदिक चिकित्सा में उपवास करना शरीर और सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माना गया है। हमारे देश मे एकादशी उपवास को महत्वपूर्ण माना गया है। साल की सभी चौबीस एकादशियों में से निर्जला एकादशी सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इसी निर्जल उपवास विधि से कैंसर चिकित्सा (आटोफैगी) के लिए पिछले वर्ष दो विदेशी वैज्ञानिकों जेम्स एलिसन और तासुकु होंजो को चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार मिला है।

उपवास की विशेषताएं

1. श्वसन क्रिया अच्छी तरह से होने लगती है। इससे फेफड़ों की सारी रूकावट खत्म हो जाती है और सांसों का बिना किसी अवरोध के आना-जाना शुरू हो जाता है।

2. उपवास से दिल से जुड़ बीमारियों में आराम मिलता है। व्रत करना हृदय के लिए अच्छा माना गया है, इससे अशुद्ध कोलेस्ट्रॉल में कमी आती है।

3. उपवास के दौरान शरीर की इंद्रियां बहुत तेजी से काम करने लगती हैं। मन में शांति और सहनशक्ति जन्म लेती है।

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

4. आंतों और रक्त से संबंधित गंदगी कम हो जाती है। आंतों की सफाई हो जाती है। उपवास करने से खून में शुद्धता आती है।

5. स्मरण शक्ति और बौद्धिक स्तर बढ़ जाता है।6. शरीर का उत्सर्जन तंत्र अच्छी तरह से कार्य करना शुरू कर देता है।

7. उपवास रखने वाले व्यक्ति को शरीर के लिए शक्ति पहले से संचित क्त्रमश: कार्बोहाइड्रेट , वसा और प्रोटीन से मिलती है।

जवाफ लेख्नुहोस्

तपाईंको ईमेल ठेगाना प्रकाशित हुने छैन । आवश्यक ठाउँमा * चिन्ह लगाइएको छ