अधिक सोचको प्रभाव: अत्यधिक सोच विचार गर्नु उमेर भन्दा पहिलेको मृत्युको प्रमुख कारण हो!


अधिक सोचको प्रभाव: अत्यधिक सोच विचार गर्नु उमेर भन्दा पहिलेको मृत्युको प्रमुख कारण हो!

इफेक्स अफ ओभरथिंकिंग द्वारा गरिएको एक अनुसन्धानले पत्ता लगायो कि जवान व्यक्तिमा मरेका मानिसहरूसँग REST नामक प्रोटीनको स्तर कम हुन्छ। जसले दिमागलाई शान्त राख्न मद्दत गर्दछ।

नयाँ दिल्ली, जीवनशैली डेस्क। अधिलेखनको प्रभाव: क्या आप भी उन लोगों में से हैं जिन्हें ज़रूरत से ज़्यादा सोचने के लिए अगर पैसा दिया जाए तो वह करोड़पति बन जाएंगे। खैर, ज़्यादा सोचना अभी तक कमाने का ज़रिया तो नहीं बना है, लेकिन उम्र से पहले मृत्यू की वजह ज़रूर बन सकता है।

हालसालै गरिएको एक अनुसन्धानका अनुसार, हार्वर्ड मेडिकल स्क्यानका अन्वेषकहरूले –०-–० वर्षको उमेरमा मरेका मानिसहरूको दिमागलाई कम्तिमा १०० बर्षको उमेरसँग तुलना गरे। यस अध्ययनले पत्ता लगायो कि जो मानिसहरु आफ्नो उमेर भन्दा पहिले मर्छन् उनीहरु लाई REST नामक प्रोटिनको गम्भिर कमी थियो। यो प्रोटीन दिमाग शान्त, बढी सोच र चिन्ता राख्छ। REST प्रोटीन पनि Alzheimer रोग बाट रक्षा गर्दछ।

एक अतिसक्रिय दिमाग़ का जीवन काल काफी कम पाया गया है, जबकि इस तरह की अधिकता को अगर नियंत्रित कर लिया जाए तो उम्र लंबी हो सकती है। ऐसा नेचर नामक पत्रिका में प्रकाशित हुए एक अध्ययन में पाया गया है।

ज़्यादा सोचना शायद आपको हानिकारक न लगता हो, लेकिन इससे स्वास्थ्य समस्याएं, रोग और विकार जुड़े होते हैं। अगर आप अक्सर ज़रूरत से ज़्यादा सोचते हैं तो आपको ये बीमारियां होने की ज़्यादा संभावना है।

गंजापन

ज़्यादा सोचना, चिंता करना और तनाव का सीधा असर गंजेपन और एलोपेसिया नाम की हार्मोनल प्रॉब्लम से है।अगर आप ज़रूरत से ज़्यादा सोचेंगे तो आपके बाल तेज़ी से गिरने शुरू हो जाएंगे।

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

दिल की बीमारी

ज़्यादा सोचने से आपक दिल की बीमारी का भी शिकार हो सकते हैं। अगर आप ज़्यादा सोचते हैं तो आपको सीने में दर्द, चक्कर आना आदि जैसे लक्षण आमतौर पर दिखते होंगे।  

मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों

कई मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दे और उनसे होने वाले जोखिम, सबका का सीधा रिश्ता ज़्यादा सोचने से ही है। ज़्यादा सोचना और घबराहट होने का भी सीधा रिश्ता इसी से है। डिप्रेशन जैसी मानसिक बीमारी भी ज़्यादा सोचने की वजह से होती है। शराब या ड्रग्स का ज़्यादा सेवन, सोने में परेशानी या फिर नींद न आने की बामीर, सभी लगातार चिंता करने की वजह से होते हैं।

वजन घटाउनको लागि अजवाइन: यदि तपाईं तौल घटाउन चाहानुहुन्छ भने यस प्रकारले अजवाइन प्रयोग गर्नुहोस्

वजन घटाउनको लागि अजवाइन: यदि तपाईं तौल घटाउन चाहानुहुन्छ भने यस प्रकारले अजवाइन प्रयोग गर्नुहोस्

पनि पढ्नुहोस्

अस्वीकरण: लेखमा उल्लिखित सल्लाह र सुझावहरू सामान्य जानकारी उद्देश्यका लागि मात्र हुन् र पेशेवर चिकित्सा सल्लाहको रूपमा लिनुहुन्न। कुनै पनि समस्याको समाधान गर्नका लागि सँधै आफ्नो डाक्टरको सल्लाह लिनुहोस्।

जवाफ लेख्नुहोस्

तपाईंको ईमेल ठेगाना प्रकाशित हुने छैन । आवश्यक ठाउँमा * चिन्ह लगाइएको छ