लैक्मे फैशन वीक 2019 में भी छाया लखनऊ के चिकनकारी का जादू, जानें इसके ’bout में


लैक्मे फैशन वीक 2019 में भी छाया लखनऊ के चिकनकारी का जादू, जानें इसके बारे में

लैक्मे फैशन वीक 2019 में डिज़ाइनर गौरव गुप्ता ने रैंप पर पेश किया लखनऊ की खासियत चिकनकारी। तो आइए जानते हैं क्या है चिकनकारी और कितने तरह की होती है यह एम्ब्रॉयडरी।

फैशन डिज़ाइनर्स के नायाब और खूबसूरत कलेक्शन्स देखने हों तो मुंबई आएं जहां इन दिनों चल रहा है लैक्मे फैशन वीक 2019। 31 जनवरी से शुरू हुए फैशन वीक के पहले दिन डिज़ाइनर गौरव गुप्ता के नाम रहा। जिनके कलेक्शन का हिस्सा बनीं लखनऊ की चिकनकारी और बनारसी ब्रोकेड।एक्ट्रेस तब्बू और डॉयरेक्टर-प्रोड्यूसर करन जौहर बने उनके शो स्टॉपर्स। जहां करन रेड सीक्वन जैकेट और ब्लैक पेंट में नज़र आएं वहीं तब्बू स्टनिंग ग्रे एम्बेलिश्ड गाउन में। पार्टेड हेयरस्टाइल और रेड लिप्स न सिर्फ उनके लुक को पूरा कर रहे थे बल्कि इसमें वो लग रही थीं बहुत ही खूबसूरत।

कहां से आई चिकनकारी

खैर बात करेंगे गौरव गुप्ता के कलेक्शन में शामिल चिकनकारी की, जो नवाबों के शहर लखनऊ की खासियत है। ऐसा माना जाता है कि चिकनकारी का काम मुगल बादशाह जहांगीर की बेगम नूरजहां की देन है। जो आज भी उतना ही मशहूर है जितना उस जमाने में हुआ करता था। रॉयल लुक देने वाली इस एम्ब्रॉयडरी ने इंडिया में ही नहीं इंटरनेशनल मार्केट्स में भी अपनी पहचान कायम कर ली है। जिसकी एक झलक लैक्मे फैशन वीक में गौरव गुप्ता के कलेक्शन में देखने को मिली।

चिकनकारी काम नहीं है आसान

बबिता फोगाट कस्टमाइज गरिएको मेहँदी: बबिता फोगाटसँग उनको विवाहमा मेहँदी लग्यो, तपाईले पनि यस्तै अनुकूलित गर्न सक्नुहुन्छ

बबिता फोगाट कस्टमाइज गरिएको मेहँदी: बबिता फोगाटसँग उनको विवाहमा मेहँदी लग्यो, तपाईले पनि यस्तै अनुकूलित गर्न सक्नुहुन्छ

पनि पढ्नुहोस्

कपड़े पर सुई से की जाने वाली ये कढ़ाई कई तरीकों से की जाती है। और सबसे खास बात है कि इसमें बिल्कुल भी मशीन का इस्तेमाल नहीं होता। कॉटन से लेकर मसलिन, शिफॉन, जॉर्जेट और ऑर्गेंजा जैसे अलग-अलग फैब्रिक्स पर चिकनकारी वर्क वाले आउटफिट्स मार्केट में देखने को मिलते हैं। हर तरह के बजट में अवेलेबल चिकनकारी आउटफिट्स की सबसे बड़ी खासियत है कि इन्हें पार्टी-फंक्शन ही नहीं कैजुअली भी, हर एक सीज़न में कैरी किया जा सकता है।

चित्रहरूमा अनुष्का शर्माको ग्लैमर लुक: अनुष्का शर्माको नयाँ ग्लैम लुकले तपाईंको मन जित्न सक्नेछ!

चित्रहरूमा अनुष्का शर्माको ग्लैमर लुक: अनुष्का शर्माको नयाँ ग्लैम लुकले तपाईंको मन जित्न सक्नेछ!

पनि पढ्नुहोस्

इतने तरह की होती है चिकनकारी

मुर्री

आलिया भट्टको गुलाबी कार्सेट: आलिया भट्ट बिभिन्न स्टाइलमा देखिएकी, गुलाबी रंगको कार्सेटमा रक गरी

आलिया भट्टको गुलाबी कार्सेट: आलिया भट्ट बिभिन्न स्टाइलमा देखिएकी, गुलाबी रंगको कार्सेटमा रक गरी

पनि पढ्नुहोस्

सबसे मुश्किल चिकनकारी, जिसमें कच्चे के तीन या पांच तारों से बारीक सुई से टांके लगाए जाते हैं। जिस पर भी चिकनकारी करनी होती है इस पर बूटा लिखा जाता है। मतलब लकड़ी के छापे पर मनचाहे बेलबूटों के नमूने खोदकर कच्चे रंगों से कपड़े पर छाप लिया जाता है। चिकनकारी करने के बाद इन्हें धोबियों से धुलाया जाता है जो कच्चा रंग हटा देते हैं और काढ़ी गई कच्चे सूत की कलियों भी उभर कर नज़र आती हैं।

बखिया

चेहरे पर जमी गंदगी और डेड सेल्स की समस्या होगी दूर, जब करेंगे उसे सही तरीके से वॉश

चेहरे पर जमी गंदगी और डेड सेल्स की समस्या होगी दूर, जब करेंगे उसे सही तरीके से वॉश

यह भी पढ़ें

इस तरह की स्टिच को खासतौर से अपने डबल बैक और शेडो वर्क के लिए जाना जाता है। जो कपड़े के उल्टे साइड पर किया जाता है जिसका शेडो कपड़े के सीधे साइड पर नजर आता है और यही इसे यूनिक लुक देता है। इसे सीधी और उल्टी बखिया भी कहा जाता है।

हूल

वर्ष एन्डर २०१:: लेहेंगाका यी nds प्रचलनहरूले हरेक दुलहीको दृश्यलाई विशेष बनाउँदछ

वर्ष एन्डर २०१:: लेहेंगाका यी nds प्रचलनहरूले हरेक दुलहीको दृश्यलाई विशेष बनाउँदछ

पनि पढ्नुहोस्

बहुत ही फाइन स्टिच होती है जो 6 धागों से हार्ट शेप फ्लावर के रूप में बनाए जाते हैं. जिसमें होल्स को फैब्रिक पर ऐसे उकेरा जाता है कि ये 6 धागे एक-दूसरे से अलग होकर एक डिज़ाइन बन जाते हैं।

शाहीद कपूर कुरूप जुत्ता: शाहिद कपूर देखिए कुरूप बुबा, जुत्तामा आश्चर्य चकित!

शाहीद कपूर कुरूप जुत्ता: शाहिद कपूर देखिए कुरूप बुबा, जुत्तामा आश्चर्य चकित!

पनि पढ्नुहोस्

जाली

ये बनाने वाले कारीगर इस कढ़ाई के महारथी होती हैं। इस डिज़ाइन की खूबसूरती होती है कि इसे किसी भी साइड से देखें डिज़ाइन्स एक जैसी ही लगती हैं। इसके अलावा बहुत सारे छोटे-छोटे बटनहोल्स भी डिज़ाइन्स के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।

मेकअप जो त्वचा के पीएच के अनुसार बदलता है रंग, जानें इन नए और अनोखे ट्रेंड के बारे में

मेकअप जो त्वचा के पीएच के अनुसार बदलता है रंग, जानें इन नए और अनोखे ट्रेंड के ’bout में

यह भी पढ़ें

राहेत

बखिया स्टिच का ही एक प्रकार है जिसे दोहरा बखिया के नाम से भी जाना जाता है। फैब्रिक पर बैक स्टिचिंग से सीधी एम्ब्रॉयडरी की जाती है। इसे डिज़ाइन की आउटलाइनिंग के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

खटाऊ

राहेत की तरह ही खटाऊ भी बखिया का ही एक प्रकार है। जो बहुत ही फाइन वर्क होता है।

फांडा

मुर्री वर्क के साथ आमतौर पर किया जाने वाला स्टिच वर्क है फांडा। जो खासतौर से चिकनकारी डिज़ाइन मोटिफ्स में इस्तेमाल किए जाने वाले फूलों के बीचो-बीच किया जाता है। इन दोनों में बस इतना फर्क है जहां मुर्री चावल शेप वाली डिज़ाइन होती है वहीं फांडा जौ शेप।

तेपची

चिकनकारी में ये एम्ब्रॉयडरी सबसे सिंपल मानी जाती है। जो खासतौर से मोटिफ डिज़ाइन्स के आउटलाइनिंग के लिए इस्तेमाल की जाती है।

बनारसी

फैब्रिक के सीधी तरफ 6 धागों से की जाती है ये स्टिचिंग। सीधी तरफ 5 धागों की तरफ से की जाने वाली इस स्टिचिंग में 2 धागे वर्टिकली छोटी स्टिच से जुड़े होते हैं। इसके बाद सुई को दोबारा फैब्रिक में डालकर हॉर्रिजॉन्टल स्टिच किया जाता है।

जंजीरा

चेन जैसी डिज़ाइन वाले इस स्टिच को फैब्रिक के सीधे तरफ किया जाता है। ये खासतौर से फूलों और पत्तियों की आउटलाइनिंग के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।

तुरपाई

ये चिकनकारी का सबसे जरूरी पार्ट होता है। पतले धागे का इस्तेमाल इस स्टिच में किया जाता है।  

जवाफ लेख्नुहोस्

तपाईंको ईमेल ठेगाना प्रकाशित हुने छैन । आवश्यक ठाउँमा * चिन्ह लगाइएको छ