मानसून में होने वाली बीमारियों से रहें दूर, इन तैयारियों के साथ


मानसून में होने वाली बीमारियों से रहें दूर, इन तैयारियों के साथ

मानसून अपने साथ डेंगू मलेरिया जैसी कई बीमारियां भी लेकर आता है जिसकी अनदेखी सेहत के लिए खतरनाक हो सकती है। तो आइए जानते हैं इन बीमारियों से बचने के उपायों के ’bout में।

बारिश का मौसम आते ही चारों तरफ हरियाली छा जाती है और मौसम खुशगवार हो जाता है लेकिन इसके साथ ही ये मौसम कई सारी बीमारियां भी अपने साथ लाता है। ऐसी बीमारियां, जिनसे हर साल सैकड़ों लोगों की मौत हो जाती है। इनमें से ज्यादातर बीमारियों के फैलने की वजह गंदगी और जगह-जगह जल भराव हैं। तो आइए जानते हैं इन बीमारियों और उनके लक्षणों के साथ बचने के उपायों के ’bout में….    

1. कोल्ड एंड फ्लू

बरसात में मिनटों में बदलते मौसम का सबसे जल्द शिकार हमारी बॉडी होती है। सर्दी-जुकाम की समस्या इस मौसम में बहुत ही आम होती है। इसके साथ ही वायरल फीवर भी। आपके आसपास कोई सर्दी-जुकाम से पीड़ित है तो आपको भी इसके होने की पूरी-पूरी संभावना होती है अगर आपका इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर है तो। 

लक्षण

सिरदर्द, बदनदर्द, नाक बहना, आंखें लाल होना, छीकें आना, गले में खराश, बुखार, सांस लेने में दिक्कत।

उपचार

सर्दी-जुकाम से बचने और ठीक करने के लिए न्यट्रिशन से भरपूर चीज़ें खाएं। जो सर्दी-जुकाम के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया से लड़ने में मददगार होते हैं। इसके साथ ही पानी पीते रहें इससे बॉडी के सभी टॉक्सिन बाहर निकलते रहते हैं और आपकी बॉडी रहती है फिट और एक्टिव।  

2. मलेरिया

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

मानसून में मलेरिया की समस्या बहुत ही आम होती है। जिसकी सबसे बड़ी वजह बारिश के पानी का इकट्ठा होना है। एनोफेलीज मच्छर के काटने से मलेरिया फैलता है। ये मच्छर प्लासमोडियम नामक पैरासाइट ढोते हैं जो ब्लड में पहुंचकर रेड ब्लड सेल्स को नष्ट कर देते हैं।

लक्षण

वजन घटाउनको लागि अजवाइन: यदि तपाईं तौल घटाउन चाहानुहुन्छ, भने यस तरिकाले सेलेरी प्रयोग गर्नुहोस्

वजन घटाउनको लागि अजवाइन: यदि तपाईं तौल घटाउन चाहानुहुन्छ, भने यस तरिकाले सेलेरी प्रयोग गर्नुहोस्

पनि पढ्नुहोस्

बुखार, सिरदर्द, बदनदर्द, कमजोरी, चक्कर आना। 

उपचार

विश्व अक्षमता दिवस २०१:: हेरचाहका यी तरिकाहरू अपनाएर बच्चाहरूको लागि मार्ग सजिलो बनाउनुहोस्

विश्व अक्षमता दिवस २०१:: हेरचाहका यी तरिकाहरू अपनाएर बच्चाहरूको लागि मार्ग सजिलो बनाउनुहोस्

पनि पढ्नुहोस्

पूरी तरह ढके हुए कपड़े पहनें।

आसपास साफ-सफाई रखें।

निन्द्राको अभावले हृदयघात हुन सक्छ: निद्रा असफलताले हृदयघातको जोखिम बढाउन सक्छ!

निन्द्राको अभावले हृदयघात हुन सक्छ: निद्रा असफलताले हृदयघातको जोखिम बढाउन सक्छ!

पनि पढ्नुहोस्

जलभराव न होने दें।

मच्छरों को दूर रखने के लिए घर में और नालियों के पास स्प्रे करते रहें। 

राष्ट्रिय प्रदूषण नियन्त्रण दिन २०१ 2019: घरको सौन्दर्य बढाउनुका साथै यसले प्रदूषणबाट पनि टाढा राख्छ, यी इनडोर प्लान्टहरू

राष्ट्रिय प्रदूषण नियन्त्रण दिन २०१ 2019: घरको सौन्दर्य बढाउनुका साथै यसले प्रदूषणबाट पनि टाढा राख्छ, यी इनडोर प्लान्टहरू

पनि पढ्नुहोस्

 

3. डेंगू

प्रेग्नेंसी में होने वाले मूड स्विंग्स से निबटने का सबसे आसान उपाय है योग, जानें अन्य फायदे

प्रेग्नेंसी में होने वाले मूड स्विंग्स से निबटने का सबसे आसान उपाय है योग, जानें अन्य फायदे

यह भी पढ़ें

डेंगू, मानसून में होने वाली बहुत ही गंभीर बीमारी है। जिससे हर साल सैकड़ों लोगों की मौत होती है। इस बुखार को हड्डीतोड़ के नाम से भी जाना जाता है। एडीस इजिप्ती मच्छर के काटने से डेंगू फैलता है। जो सुबह और देर रात काटते हैं।

लक्षण 

बुखार, सिरदर्द, रैशेज, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, ठंड लगना, कमजोरी, चक्कर आना।

उपचार

फिलहाल डेंगू से बचने के लिए कोई वैक्सीन अवेलेबल नहीं। लेकिन बारिश के मौसम में घर में कहीं भी पानी न जमा होने दें क्योंकि इसके मच्छर वहीं से पनपते हैं। डेंगू से पीड़ित व्यक्ति को ज्यादा से ज्यादा लिक्विड लेना चाहिए। लक्षण नज़र आते ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।  

4. चिकनगुनिया

एडिस मच्छरों के काटने से फैलने वाली बीमारी है चिकनगुनिया। जिसके लक्षण काफी हद तक डेंगू से मिलते-जुलते हुए होते हैं। एशिया, अफ्रीका, यूरोप और अमेरिका में ये बीमारी बहुत ही आम है। मनुष्यों में चिकनगुनिया वायरस ले जाने वाले मच्छरों एडीस एल्बोपिक्टस  और एडीस इजिप्ती के काटने से फैलता है। जो ज्यादातर दिन के समय काटते हैं।

लक्षण

सिरदर्द, आंखों में दर्द, नींद न आना, कमजोरी, शरीर पर लाल चकत्ते बनना और जोड़ों में बहुत तेज दर्द होना।

उपचार

इसका उपचार भी आसपास सफाई रखना है। जिससे मच्छर पैदा न हो।

5. टाइफाइड 

बारिश में बाहर का खाना खाना और पानी पीना टाइफाइड को दावत देना है। सालमोनेला टाइफी नामक वायरस से ये बीमारी फैलती है। घर में भी बासी खाना खाने से बचें क्योंकि ये मौसम ही ऐसा होता है कि बैक्टीरिया को पनपते देरी नहीं लगती। 

लक्षण

खाने का जी न करना, उल्टी होना, कमजोरी, सिरदर्द। 

उपचार

ताजा खाना खाएं।

खाने को गर्म करके खाएं।

फ्रिज में बहुत दिनों तक रखा खाना न खाएं।

पानी को उबालकर पिएं।

जवाफ लेख्नुहोस्

तपाईंको ईमेल ठेगाना प्रकाशित हुने छैन । आवश्यक ठाउँमा * चिन्ह लगाइएको छ