दवाइयों से नहीं, नेचुरल डाइट से दूर कर सकते हैं कुपोषण और उससे होने वाली समस्याएं


दवाइयों से नहीं, नेचुरल डाइट से दूर कर सकते हैं कुपोषण और उससे होने वाली समस्याएं

नेचुरल डाइट अपनाकर आप केवल स्वस्थ ही नहीं रह सकते बल्कि कुपोषण और उससे होने वाली अन्य समस्याओं को भी दूर कर सकते हैं। जानेंगे इसके ’bout में और विस्तार से।

कुपोषण दूर करने के लिए प्राकृतिक आहार को अत्यंत महत्व दिया गया है। वैसे तो कुपोषण को दूर करने के लिए तमाम तरह की ऐलोपैथिक और आयुर्वेदिक दवाइयां मौजू हैं, लेकिन कुदरती खानपान का कोई ऑप्शन ही नहीं। इनकी सबसे अच्छी बात होती है कि इनसे किसी तरह का कोई साइड इफेक्ट नहीं होता और फायदे भी बहुत जल्द नजर आने लगते हैं। कुदरती खानपान का मतलब है प्रकृति द्वारा दी गई चीज़ों को उसी तरह खाना, न कि उनमें स्वाद बढ़ाने के लिए बहुत सारे बदलाव और प्रयोग करना। तो आइए एक नजर डालते हैं उन चीज़ों और सुझावों पर, जिन्हें अमल कर महिलाएं कुपोषण से रह सकती हैं दूर…

1. सहजन की पत्तियों में कैल्शियम, विटामिंस और प्रोटीन पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए सहजन का सेवन अत्यंत लाभप्रद है।

2. हरी सब्जियां, कद्दू, तोरई, खीरा, और करेला, पपीता का सेवन लाभप्रद है। 

3. एक लीटर पानी में दो चम्मच जीरा डालें और फिर इसे उबालकर रख लें। इसके बाद इसका सेवन करें।

4. घी अत्यंत उपयोगी है। एक छोटी चाय की चम्मच घी का सेवन किया जा सकता है। घी खाने से हड्डियां मजबूत होती हैं।

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

5. सूखे मेवे, शहद, घृतकुमारी (एलोवेरा) का नियमित सेवन करना भी लाभप्रद है। 

वजन घटाउनको लागि अजवाइन: यदि तपाईं तौल घटाउन चाहानुहुन्छ भने यस प्रकारले अजवाइन प्रयोग गर्नुहोस्

वजन घटाउनको लागि अजवाइन: यदि तपाईं तौल घटाउन चाहानुहुन्छ भने यस प्रकारले अजवाइन प्रयोग गर्नुहोस्

पनि पढ्नुहोस्

6. पालक, चुकंदर, बादाम, अंजीर खाना फायदेमंद है।

विश्व अक्षमता दिवस २०१:: हेरचाहका यी तरिकाहरू अपनाएर बच्चाहरूको लागि मार्ग सजिलो बनाउनुहोस्

विश्व अक्षमता दिवस २०१:: हेरचाहका यी तरिकाहरू अपनाएर बच्चाहरूको लागि मार्ग सजिलो बनाउनुहोस्

पनि पढ्नुहोस्

7. राई, सेम और मसूर की दाल में प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है। ये आहार महिला स्वास्थ्य के लिए उपयुक्त माने जाते हैं।

निन्द्राको अभावले हृदयघात हुन सक्छ: निद्रा असफलताले हृदयघातको जोखिम बढाउन सक्छ!

निन्द्राको अभावले हृदयघात हुन सक्छ: निद्रा असफलताले हृदयघातको जोखिम बढाउन सक्छ!

पनि पढ्नुहोस्

8. शहद और नींबू का सेवन करना हितकर है।

राष्ट्रिय प्रदूषण नियन्त्रण दिन २०१ 2019: घरको सौन्दर्य बढाउनका साथै यसले प्रदूषणबाट पनि टाढा रहनेछ, यी इनडोर प्लान्टहरू

राष्ट्रिय प्रदूषण नियन्त्रण दिन २०१ 2019: घरको सौन्दर्य बढाउनका साथै यसले प्रदूषणबाट पनि टाढा रहनेछ, यी इनडोर प्लान्टहरू

पनि पढ्नुहोस्

9. घी या दूध के साथ चावल मिलाकर खा सकती हैं।

प्रेग्नेंसी में होने वाले मूड स्विंग्स से निबटने का सबसे आसान उपाय है योग, जानें अन्य फायदे

प्रेग्नेंसी में होने वाले मूड स्विंग्स से निबटने का सबसे आसान उपाय है योग, जानें अन्य फायदे

यह भी पढ़ें

10. पतली खीर, खिचड़ी और सूप, का सेवन भी लाभप्रद है।

11. आंवले से बने पदार्थ जैसे मुरब्बा, जूस, और च्यवनप्राश लेना भी लाभप्रद है।

12. दूध,नारियल पानी और फलों के रस का नियमित सेवन करें।

13. तुलसी के पत्ते उबालकर बनाई गई चाय भी फायदेमंद है। 

डॉ.उल्हास बुराडे (आयुर्वेदाचार्य,भंडारा, नागपुर)

 

जवाफ लेख्नुहोस्

तपाईंको ईमेल ठेगाना प्रकाशित हुने छैन । आवश्यक ठाउँमा * चिन्ह लगाइएको छ